IPO क्या है? और इसमें निवेश कैसे करे – What is IPO in Hindi

नमस्कार दोस्तों हमारे ब्लॉग में आपका स्वागत है और आज हम आपको IPO के बारे में बताएंगे। तो चलिए अपनी पोस्ट शुरू करते हैं और जानते हैं कि IPO क्या है और कैसे काम करता है। (IPO kya hai – IPO kaise kam kerta hai) और कैसे आप आईपीओ का फायदा उठा सकते हैं। और अगर आप इस पोस्ट में आईपीओ के बारे में जानना चाहते हैं तो हमारे आईपीओ की लिस्ट क्या है। पूरा पढ़ें ताकि आपको Initial Public Offering से जुड़ी सारी जानकारी मिल सके।

IPO kya hai और इसमें निवेश कैसे करे| IPO का फुल फॉर्म क्या है, पैसे कैसे कमाए, और यह काम कैसे करता है| Initial Public Offering में शेयर कैसे खुलते है|

सबसे पहले हम जानते हैं कि आईपीओ क्या होता है – IPO kya hota hai. तो आसान भाषा में बताऊं तो IPO (आरंभिक सार्वजनिक पेशकश) तब होता है जब कोई नई कंपनी बाजार में अपने शेयर जारी करती है। इसलिए इस प्रक्रिया को आईपीओ कहा जाता है। यहीं लोग निवेश करते हैं। ताकि कंपनी सूचीबद्ध हो जाए और शेयर बाजार के माध्यम से शेयरों का प्रबंधन करे ।

तो अभी मैंने आपको IPO क्या होता है इसके बारे में थोड़ा परिचय दिया है। अब हम नीचे पोस्ट में आईपीओ से जुड़ी और भी बातें जानते हैं और अपनी पोस्ट शुरू करते हैं।

IPO क्या है? – IPO Kya Hai

आईपीओ एक ऐसी प्रक्रिया है जिसके जरिए नई कंपनियां बाजार में आती हैं और अपने शेयर बाजार में लाती हैं। ताकि लोग अपने शेयर खरीद सकें। और अगर लोगों द्वारा शेयरों में निवेश किया जाता है तो इससे कंपनी को भी फायदा होगा, इसी को आईपीओ कहते हैं। आईपीओ को हिंदी में पब्लिक ऑफर कहा जाता है जो सभी के लिए समान होता है।

यानी किसी भी लिमिटेड कंपनी द्वारा जारी किए गए शेयरों को आईपीओ कहा जाता है। ताकि जो भी नई कंपनी हो, वह बाजार में अपनी पकड़ बना सके।

एक बार जरूर देखे:-

IPO फुल फॉर्म – IPO Full Form Hindi

IPO Ka Full Form या पूरा नाम “Initial Public Offering” होता है, हिंदी में IPO फुल फॉर्म – “इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग” होता है।

Upcoming IPOs List

IPO का फुल फॉर्म क्या होता है (IPO Ka Full Form Kya Hota Hai) इस बारे में जान गए होंगे|

IPO में निवेश कैसे करें

अगर आप आईपीओ में निवेश करने की सोच रहे हैं तो आपको बता दें कि IPO एक जोखिम भरा निवेश हो सकता है।
लेकिन जब भी कोई कंपनी आईपीओ जारी करती है। तब कंपनी शेयर बाजार के निवेशकों को अधिकतम 10 दिन का समय देती है । और वही कुछ कंपनियां 3 से 4 दिन ही देती हैं।

जो कोई भी आईपीओ में निवेश करना चाहता है वह इस समयावधि में रहकर शेयर खरीद सकता है। और आईपीओ शेयर खरीदने के लिए आप या तो सीधे कंपनी की वेबसाइट से खरीद सकते हैं । या आप किसी मान्यता प्राप्त ब्रोकरेज के माध्यम से खरीद सकते हैं।

अगर आईपीओ की कीमत एक बार में तय हो जाती है, तो आपको आईपीओ को उसी तय कीमत पर खरीदना होगा। लेकिन इसके अलावा आईपीओ की बुक बिल्डिंग

ही जारी हो चुकी है। तो आपको इस जारी किए गए बुक बिल्डिंग पर बोली लगानी होगी। अगर आईपीओ में निवेश करने की एक मुख्य प्रक्रिया है।

आईपीओ कैसे काम करता है – IPO Kam Kaise Karta Hai

जैसा कि मैंने आपको बताया कि IPO ज्यादातर नई कंपनियों(New Company) द्वारा ही जारी किया जाता है। अब इसमें तब तक जब तक कंपनी आईपीओ जारी करने से पहले अपने आप में स्वामित्व रखती है। और उस कंपनी में भी निवेशक होते हैं, ऐसा बहुत कम होता है जैसे कंपनी का मालिक भी निवेश करता है। इसके साथ ही इस कंपनी के कुछ पार्टनर भी हैं और इसके अलावा कुछ ऐसे निवेशक भी हैं। जो कंपनी के विचार को देखकर भी कंपनी में निवेश करते हैं, लेकिन इसके बावजूद कंपनी बहुत सीमित है।

अब, जब कंपनी IPO जारी करती है, तो कंपनी ने अपना सारा विकास शेयर बाजार के माध्यम से किया है। यह सीमित हो गया है लेकिन जब शेयर बाजार के निवेशकों द्वारा सार्वजनिक धन का निवेश आईपीओ में किया जाता है।

कंपनी तब अपने अगले विकास चरण में पहुंच जाती है। इसमें कंपनी अपने आईपीओ निवेशकों के पैसे से आगे बढ़ सकती है। जिससे कंपनी को और फायदा होता है और जिन निवेशकों ने पैसा लगाया है उन्हें भी फायदा मिलता है.

लेकिन जब कोई कंपनी आईपीओ जारी करती है तो यह किसी भी कंपनी के लिए बहुत बड़ा और महत्वपूर्ण कदम होता है। जिससे कंपनी को सीधा फायदा पैसे के रूप में ही मिलता है। ऐसे में शेयर बाजार के कई निवेशक ऐसे हैं जो आईपीओ के जरिए शेयर नहीं खरीदते हैं।

क्या है IPO लाने की मुख्य वजह

IPO लाने की सबसे बड़ी वजह वह है। अगर किसी कंपनी को अपना बिजनेस बढ़ाने के लिए ज्यादा निवेश की जरूरत है। और कंपनी के पास निवेश करने के लिए फंड नहीं है। फिर ऐसे में कंपनी आईपीओ जारी कर फंड जमा करती है और जमा किए गए फंड को अपने कारोबार में निवेश करती है। इससे कंपनी का विकास होता है और कंपनी को मुनाफा होता है।

IPO आवंटन की पूरी प्रक्रिया

आईपीओ आवंटन की प्रक्रिया की बात करें तो आईपीओ का उद्घाटन और समापन कब होता है। फिर सभी कंपनियां आईपीओ आवंटित करती हैं, जिसके तहत जिसने भी आईपीओ में निवेश किया है। आईपीओ उन्हें अलग से आवंटित किया जाता है और केवल एक बार सभी निवेशकों को आईपीओ आवंटित किया जाता है। इसके बाद ये स्टॉक एक्सचेंज में लिस्ट भी हो जाते हैं।

और इस प्रक्रिया को पूरा करने के बाद, सभी निवेशक जो वहां हैं, अपने शेयर खरीद और बेच सकते हैं।

क्या आप IPO में निवेश कर सकते हैं?

अगर निवेश की बात करें तो आईपीओ में कोई भी व्यक्ति निवेश कर सकता है। लेकिन आईपीओ में निवेश करना भी जोखिम भरा माना जाता है। तो अगर आप किसी नई कंपनी का IPO अलॉट करते हैं। फिर आपको कंपनी के भविष्य को ध्यान में रखते हुए इसके आईपीओ में निवेश करना चाहिए। क्योंकि अगर कंपनी घाटे में चली गई तो आप भी घाटे में चले जाएंगे। तो इस बात का ध्यान रखें।

IPO से पैसे कैसे कमाए? – IPO se Paise Kaise Kamaye

यदि बैंक द्वारा आईपीओ में धन का निवेश किया जाता है तो बैंक आईपीओ से भी पैसा कमाता है। और IPO की तरह ही स्टॉक स्टॉक एक्सचेंज यानी शेयर बाजार में लिस्ट होता है। फिर यदि IPO के शेयर शेयर बाजार में सूचीबद्ध होने से पहले ही बैंक द्वारा खरीद लिए जाते हैं।

और बाद में आईपीओ के शेयर जनता के लिए जारी किए जाते हैं। तब बैंक उस फंड के बीच के अंतर पर पैसा कमा सकता है जो बैंक ने निवेश किया है और जनता ने शेयर खरीदे हैं।

अगर हम आईपीओ की बात करें तो आईपीओ एक बहुत बड़ी प्रक्रिया है। और अगर आप एक आम इंसान हैं और आईपीओ का हिस्सा खरीदना चाहते हैं और इसका फायदा भी उठाना चाहते हैं। फिर अगर आप शेयर खरीदने के लिए ऐसे किसी प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल करते हैं तो यकीन मानिए। और आपको IPO Fund दिलाने के साथ-साथ यह भी बता रहे हैं कि आपको अपना आईपीओ शेयर कब बेचना है और कब खरीदना है। फिर आप कहीं भी जा सकते हैं और आईपीओ में निवेश करके अपना पैसा कमा सकते हैं।

IPO vs SEBI

जैसा कि आप जानते होंगे सेबी (भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड) – SEBI (Securities and Exchange Board of India) में एक बहुत बड़ा संगठन है। जो सभी शेयर बाजार कंपनियों पर नजर रखता है और आईपीओ जैसी स्टॉक प्रक्रिया पर भी नजर रखता है।

यदि कोई IPO Share Bazar में अपने शेयरों को सूचीबद्ध करता है। इसलिए कंपनी को सेबी को पूरी जानकारी देनी होगी। कोई कंपनी सेबी की नजर में आए बिना न तो आईपीओ के लिए जा सकती है और न ही अपने शेयर बाजार में रिलीज कर सकती है। क्योंकि सेबी भारत सरकार की एक संस्था है।

आईपीओ के लाभ

  • जब कोई कंपनी आईपीओ लेकर आती है तो वह इसे साबित करती है। कंपनी अपने कारोबार को आगे बढ़ा रही है।
  • अगर कंपनी आईपीओ जारी करती है, तो वह अपनी कंपनी में काम करने के लिए अधिक कर्मचारियों को कर सकती है। जिससे अधिक से अधिक व्यापार किया जा सके।
  • अगर कंपनी को आईपीओ जारी करने से ज्यादा फंड मिलता है। इसलिए वह इसे अपने व्यवसाय में निवेश कर सकती है और अधिक लाभ कमा सकती है।
  • और जब कोई कंपनी आईपीओ जारी करती है और आप उसमें निवेश करते हैं। फिर आप भी इस कंपनी में निवेश करके खुद मुनाफा ले सकते हैं।
  • आईपीओ एक सामान्य प्रक्रिया है और इसे सेबी ने भी मंजूरी दे दी है। लेकिन यह आप पर निर्भर करता है कि आप कौन सा आईपीओ शेयर खरीदते हैं।
  • आईपीओ में निवेश करना ठीक है, लेकिन अगर आप निवेश करना चाहते हैं तो सही कंपनी के आईपीओ शेयर सही ब्रोकर के जरिए ही खरीदें।

जरूर देखे – IPO in Hindi

आज आपने क्या सीखा

मुझे पूरी उम्मीद है की आप सभी को आज का यह लेख जरूर पसंद आया होगा| IPO क्या है? IPO का फुल फॉर्म क्या है IPO में निवेश करके पैसे कैसे कमाए…… के बारे में पूरी जानकारी गई है|

अगर आपको इस लेख से सम्बंधित कुछ भी समस्या है| तो आप कमेंट सेक्शन में पूछ सकते है| लेटेस्ट अपडेट, ट्रेंडिंग न्यूज़, स्पोर्ट्स से सम्बंधित जानकरी के लिए हमारे “HOME PAGE” पर जरूर जाये| धन्यवाद Artical No: S8A0R0

Leave a Comment