PAN Card Kya Hai – कैसे बनाये, क्यों जरुरी है, ऑनलाइन अप्लाई करे

PAN Card Kya Hai – आज हम बात करेंगे PAN Card के बारे| में यह हमारे जीवन में क्यों महत्वपूर्ण है। इसमें 10 अंकों का अक्षरांकीय शब्द होता है इसका क्या मतलब है? PAN Card kaise banaye, PAN के लिए ऑनलाइन अप्लाई कैसे करे और हमारे पैन कार्ड का क्या उपयोग है? और इसकी मदद से हम कोई भी काम बहुत ही आसानी से कर सकते हैं। आज हम बहुत ही आसान भाषा में पैन कार्ड से जुड़ी सारी जानकारी जानेंगे।

PAN Card Kya hai, Pan Card Ke leye Online or Offline Apply kaise kere, PAN Card पर दिए 10 अंको का क्या मतलब है और क्यों जरुरी है - Permanent Account Number

दुनिया भर के सभी देशों के लोगों के पास उनकी पहचान के लिए एक पहचान पत्र होता है। एक ही पहचान पत्र देश के सभी लोगों के पास रहता है। जिसकी मदद से वहां की सरकार को उस व्यक्ति के बारे में सारी जानकारी मिल जाती है| नाम सिग्नेचर फोटो के बारे में और भी बहुत कुछ जानकारी दी गई है। उसकी मदद से आप उस व्यक्ति के बारे में सारी जानकारी जान सकते हैं। भारत में पहचान प्रमाण के लिए आधार कार्ड, पैन कार्ड, वोटर कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस का इस्तेमाल किया जाता है।

आप यह पहचानने के लिए पेन कार्ड का उपयोग कर सकते हैं कि आप सभी भारत के नागरिक हैं। पेन कार्ड भारत के लोगों की पहचान के लिए बनाया गया है। जिसे आप भारत के सभी राज्यों में इस्तेमाल कर सकते हैं। यह पेन कार्ड पहचानता है कि आप कौन हैं। उसके पास आपके बारे में सारी जानकारी है। जो आपके जीवन को और भी आसान बना देता है।

पैन कार्ड में 10 अंकों का अल्फ़ान्यूमेरिक शब्द होता है। जिसमें यह सारी जानकारी दी गई है। कार्ड आपके जीवन में बहुत महत्वपूर्ण है। इसे सभी लोगों द्वारा धारण करना आवश्यक है। कि आपको कभी भी इसकी आवश्यकता पड़ सकती है। अब हम नीचे पूरी डिटेल में पैन कार्ड के बारे में जानेंगे।

एक बार जरूर देखे

पैन कार्ड क्या है? – PAN Card Kya Hai

अब हम जानेंगे कि यह कार्ड क्या है। पैन कार्ड का पूर्ण रूप “स्थायी खाता संख्या” (PAN Card ka Full Form “Permanent Account Number”)है। इसमें 10 अंकों का alphanumeric character होता है। जो कि इनकम टैक्स विभाग की ओर से सभी पेन कार्ड यूजर्स को दिया जाता है। पेन कार्ड इंडिया एक्ट, 1961 के तहत भारत में लैमिनेटेड कार्ड कैसे बनता है। जिसे आयकर विभाग (CBDT) द्वारा बनाया गया था। CBDT का फुल फॉर्म “सेंट्रल बोर्ड फॉर डायरेक्ट टैक्सेज” (Central Board for Direct Taxes) है।

आधिकारिक वेबसाइट: https://www.incometaxindia.gov.in/Pages/default.aspx

आपकी सभी जानकारी परमानेंट अकाउंट नंबर पर दी जाती है। आपका नाम, पिता का नाम, जन्म तिथि, फोटो, हस्ताक्षर, यह जानकारी दी गई है। पेन कार्ड का आकार आधार कार्ड के बराबर होता है। जिसे आप आसानी से अपने पास रख सकते हैं।

पेन कार्ड का मुख्य उपयोग इनकम टैक्स भरने के लिए किया जाता है| इसके बिना आप टैक्स नहीं भर सकते हैं। यह आपके द्वारा कर नहीं लगाया जाता है। और आप कर सरकार भरते हैं। इसमें इसकी सारी जानकारी दी गई है। सभी के पास पेन कार्ड होना चाहिए। जिसे आप सही टैक्स दे सकते थे और आपका पैसा सरकार की नजर में आ गया। टैक्स न देने से आपके पैसे को सरकार की नजर में काला धन माना जाता है।

पैन कार्ड के उपयोग

पैन कार्ड हम सभी के जीवन में एक बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका है। कई लोग ऐसे भी हैं, जो पैन कार्ड का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन जो इसका इस्तेमाल नहीं करते उन्हें भी इसका इस्तेमाल करना चाहिए। क्योंकि यह जरूरी नहीं है कि कार्ड का इस्तेमाल सिर्फ बिजनेस और जॉब के लिए ही किया जाए। आयकर का भुगतान करने के लिए अधिकांश पैन कार्ड का उपयोग किया जाता है। हाँ, आप इस नंबर का उपयोग अपने बैंक खाते में कर सकते हैं। सभी लोग अपने दैनिक जीवन में पैन कार्ड का लेन-देन करने के आदी हैं।

आप कार्ड का इस्तेमाल ट्रेन में या कहीं भी अपनी पहचान के तौर पर कर सकते हैं। क्योंकि यही आपकी पहचान है। जिस पर आपके बारे में सारी जानकारी दी जाती है। स्थायी खाता संख्या – Permanent Account Number की आवश्यकता कभी भी पड़ सकती है, इसलिए सभी के पास पैन कार्ड होना चाहिए। अगर आप सोचते हैं कि आपको कार्ड की जरूरत नहीं पड़ेगी तो आप गलत हैं। आज की नई पीढ़ी में पेन कार्ड का प्रयोग हर जगह होने लगा है। जैसे आपको कुछ भी फाइनेंस करना है या बैंक में ज्यादा कैश जमा करना है।

पैन कार्ड पर लिखे 10 अंकों का मतलब क्या होता है?

स्थायी खाता संख्या पर 10 अंकों का शब्द क्या है? यह आपका स्थायी खाता संख्या है। आयकर विभाग, जिसकी आपको आवश्यकता है, करों का भुगतान करने के लिए उपयोग किया जाता है। और इसमें आपके बारे में सारी जानकारी होती है।

पहले पांच अक्षर अंग्रेजी के अक्षर हैं। अगला चार अंक संख्या है। और अंत में, फिर से एक अंग्रेजी वर्णमाला है। यह पैन कार्ड का 10 अंकों का नंबर होता है। जिस व्यक्ति के बारे में सारी जानकारी दी गई है, अब हम जानते हैं कि इन सभी 10 अंकों का क्या मतलब है।

पेन कार्ड में पहले पांच अक्षर संख्याओं से, A से Z तक शुरू होने वाली 3 वर्णमाला संख्याएं बीच से ली जाती हैं। ये नंबर कुछ भी हो सकते हैं। चौथा अक्षर इस बात पर निर्भर करता है कि आप क्या ले रहे हैं।

A – Association of Persons

B – Body of Individuals

C – Company

F – Firm

G – Government

H – Hindu Undivided Family

L – Local Authority

J – Artificial Juridical Person

P – person

T – Trust

5वां अक्षर व्यक्ति के नाम और उपनाम को देखकर लिया जाता है। यदि किसी का नाम सागर वर्मा है तो उसमें से S या V लिया जाता है। और उसके बाद जो 6 से 9 अंकों तक लिया जाता है। इनकी रेंज 0001 से 9999 तक होती है। जो कि अक्षरों में अंतिम है। इन 9 वर्णों को देखकर एक सूत्र बनता है और उसमें से अंतिम वर्ण संख्या निकलती है। इस तरह हमारे पैन कार्ड के 10 अंक बन जाते हैं।

PAN Card ke Fayde – पैन कार्ड के फ़ायदे

क्या आप जानते हैं पैन कार्ड के क्या फायदे हैं? अब हम इसके फायदों के बारे में जानेंगे। अगर आप पैन कार्ड के नए यूजर हैं तो आपको इसके फायदों के बारे में नहीं पता होगा। आज मैं आपको इसके फायदों के बारे में कुछ बिंदु बता रहा हूं। और जो लोग पैन कार्ड के बारे में जानते हैं उन्हें भी वहां ये फायदे पढ़ने चाहिए। इसमें कुछ ऐसे फायदे बताए गए हैं जिनके बारे में शायद आप नहीं जानते होंगे।

  • ट्रेन में यात्रा करते समय एक पहचान पत्र काम आता है।
  • पेन कार्ड का उपयोग मोबाइल, कार, बाइक या टीवी फाइनेंस के लिए भी किया जाता है। इसकी मदद से आप किसी भी तरह का फाइनेंस करवा सकते हैं।
  • इसका एक फायदा यह भी है कि कार्ड की मदद से आपको किसी भी तरह का कर्ज लेने में कोई परेशानी नहीं होती है। और आपको आसानी से लोन मिल सकता है।
  • बैंक में चालू खाता खोलने के लिए और बैंक से स्वाइप मशीन लेने के लिए एक स्थायी खाता संख्या भी बहुत महत्वपूर्ण है।
  • इसकी मदद से आप आसानी से इनकम टैक्स भर सकते हैं।
  • अगर आप नौकरी के लिए आवेदन कर रहे हैं। तो आप पहचान के लिए पैन नंबर का उपयोग कर सकते हैं
  • बैंक के साथ 50,000 से अधिक लेनदेन करने के लिए, आपके पास सभी बैंकों में एक कार्ड अनिवार्य होना चाहिए।

दस्तावेज़ – PAN Card ke leye Documents

आपको पैन कार्ड मिलने वाला है। आपको यह पता लगाना होगा कि पैन कार्ड बनाने के लिए कौन से आवश्यक दस्तावेज आवश्यक हैं। ताकि आप इसे आसान बना सकें। सुनिश्चित करें कि जिसे मिल रहा है वह बना है। दस्तावेज़ भी उसी व्यक्ति द्वारा जल्दी से बदल दिए जाते हैं। जिससे आपको परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।

Identity Proof

पहचान के लिए आपको निम्नलिखित दस्तावेजों की आवश्यकता होगी।

  1. Passport
  2. Voter ID card
  3.  Aadhar Card 
  4.  Ration card
  5.  Driving License

Address proof

एड्रेस प्रूफ के लिए आपको नीचे दिए गए दस्तावेजों की जरूरत पड़ेगी।

  1. Aadhar Card
  2.  Passport
  3.  Voter ID card
  4. Driving license
  5.  Passport

जन्म प्रमाण पत्र के लिए आपको नीचे दिए गए दस्तावेजों की आवश्यकता होगी।

  1. .Aadhar Card
  2.  Birth certificate
  3.  Driving license
  4. Passport
  5. Matric Certificate

New Photo

आवेदन करते समय आपको दो नए पासपोर्ट आकार के फोटो चाहिए। तस्वीरें नई होनी चाहिए। पुरानी तस्वीरों के कारण आपको बाद में परेशानी का सामना करना पड़ सकता है।

सभी दस्तावेजों की एक फोटोकॉपी लें और इसे अच्छी तरह से स्टेपलर करें। इसके साथ ही आपको आपके सिग्नेचर मिल जाएंगे। भारत सरकार ने सभी बैंकों में पैन कार्ड अनिवार्य कर दिया है। और इसके साथ ही जैसे आधार कार्ड हर जगह अनिवार्य है, पैन कार्ड भी हर जगह अनिवार्य कर दिया गया है।

पैन कार्ड के लिए ऑनलाइनअप्लाई कैसे करे

जब कार्ड पेश किया गया था, तो यह केवल सरकारी कर्मचारियों के लिए बनाया गया था। लेकिन समय के साथ सभी लोगों के लिए कार्ड अनिवार्य कर दिया गया। इसका मतलब है कि अब कोई भी इसे बना सकता है। भले ही कोई व्यक्ति भारत से बाहर हो। जब इसे पेश किया गया था, तब पैन कार्ड बनाना मुश्किल था। लेकिन समय के साथ इसे बनाना आसान हो गया है। इसे आप दो तरह से बना सकते हैं। आइए जानते हैं दोनों में से कौन सी तारीख है।

सबसे पहले आप आयकर विभाग की आधिकारिक साइट पर जाकर अपना पैन कार्ड बनवा सकते हैं। वहां आपको सारी डिटेल भरनी होगी और उनसे चार्ज करना होगा, आपको नेट बैंकिंग से देना होगा। इसके लिए हमने आपको यहां नीचे दिया है।

दूसरा तरीका यह है कि आप पैन कार्ड सर्विस सेंटर में जाकर अपना कार्ड बनवा सकते हैं। उसके लिए आपको सर्विस सेंटर में जाकर जरूरी दस्तावेज जमा करने होंगे।

पैन कार्ड क्यों जरूरी है

अब हम बात करेंगे कि पैन कार्ड क्यों जरूरी है। आज के नए दैनिक जीवन में हर जगह पेन कार्ड का इस्तेमाल होने लगा है। आप सभी को पता ही होगा कि यह बैंक से लेकर फाइनेंस तक का काम करता है। लेकिन जिन लोगों ने पैन कार्ड के बारे में नहीं सुना होगा उन्हें जरूर पता होना चाहिए।

  • सबसे पहले, उपयोगकर्ता आयकर का भुगतान करते हैं। क्योंकि हम कार्ड के जरिए ही इनकम टैक्स का भुगतान कर सकते हैं। इसके साथ ही हम जो टैक्स दे रहे हैं उसकी पूरी जानकारी परमानेंट अकाउंट नंबर कार्ड में 10 अंकों की संख्या में दी गई है।
  • हम बैंक में खाता खोलने के लिए कार्ड का उपयोग कर सकते हैं और इसका उपयोग बैंक में पैसा जमा करने के लिए भी किया जाता है।
  • इस कार्ड का उपयोग पासपोर्ट बनाने के लिए किया जाता है। भारत से बाहर जाने से हमें कोई फर्क नहीं पड़ता। यदि आपके पास एक नहीं है, तो आप पासपोर्ट नहीं बना पाएंगे।
  • आप अपने पैसे को म्यूच्यूअल फण्ड की तरह कहीं भी निवेश करें जहाँ आपको इस्तेमाल करना हो।
  • आने वाले समय में पैन कार्ड को हर चीज में अनिवार्य किया जा सकता है।
  • पेन कार्ड संपत्ति खरीदने और बेचने में उपयोगी होते हैं। इसके अलावा आप कार या कोई बड़ा विकल्प खरीदने के आदी भी हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ)

PAN कार्ड का फुल फॉर्म क्या है?

PAN कार्ड का फुल फॉर्म “परमानेंट अकाउंट नंबर कार्ड” / “Permanent Account number card” होता है।

PAN Card को हिंदी में क्या कहते हैं?

PAN Card को हिंदी में “स्थाई लेखा संख्या कार्ड” कहा जाता है|

पैन कार्ड किसके लिए काम करता है?

पैन कार्ड का इस्तेमाल इनकम टैक्स डिपार्टमेंट टैक्स चुकाने के लिए है। इसके अलावा बैंक में पैन कार्ड को भी अनिवार्य कर दिया गया है।

पैन कार्ड बनवाने में कितना खर्चा आता है?

अगर आप ऑनलाइन अप्लाई करते हैं तो इसकी कीमत करीब ₹100 है। और अगर आप ऑफलाइन अप्लाई करते हैं तो इसकी कीमत आपको 100 से 150 रुपये पड़ती है।

पैन कार्ड किसने जारी किया है?

आयकर विभाग भारत सरकार ने जारी किया पैन कार्ड|

क्या पैन कार्ड और आधार कार्ड को लिंक करना जरूरी है?

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अनुसार आधार कार्ड और पैन कार्ड को लिंक करना अनिवार्य

पैन कार्ड कितने दिनों में आता है?

पैन कार्ड आवेदन फॉर्म भरने के 15 से 20 दिनों में आपको पैन कार्ड मिल जाता है। लेकिन आज की पहली पीढ़ी में आवेदक को 2 से 3 दिन में पैन कार्ड मिल जाता है।

पैन कार्ड किस तारीख को जारी किया गया था?

पेन कार्ड इंडिया एक्ट, 1961 के तहत भारत में लैमिनेटेड कार्ड कैसे बनता है। जिसे आयकर विभाग (सीबीडीटी) द्वारा बनाया गया था। CBDT का फुल फॉर्म “सेंट्रल बोर्ड फॉर डायरेक्ट टैक्सेज” / “Central Board for Direct Taxes” है।

जरूर देखे – PAN Card in Hindi




आज आपने क्या सीखा

मुझे पूरी उम्मीद है की आप सभी को आज का यह लेख जरूर पसंद आया होगा| PAN Card Kya hai, Pan Card Ke leye Online or Offline Apply kaise kere, PAN Card पर दिए 10 अंको का क्या मतलब है……. के बारे में पूरी जानकारी गई है|

अगर आपको इस लेख से सम्बंधित कुछ भी समस्या है| तो आप कमेंट सेक्शन में पूछ सकते है| लेटेस्ट अपडेट, ट्रेंडिंग न्यूज़, स्पोर्ट्स से सम्बंधित जानकरी के लिए हमारे “HOME PAGE” पर जरूर जाये| धन्यवाद Artical No: S3A0R0

Leave a Comment