SIP क्या है, सिप में कैसे करे निवेश – What is SIP in Hindi

SIP क्या है(What is SIP in Hindi)और सबसे अच्छा निवेश योजना क्या है? एसआईपी कैलकुलेटर क्या है इसकी गणना कैसे करें। SIP का मतलब सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान(Systematic Investment Plan) है। आज की पीढ़ी में ऐसा कोई व्यक्ति नहीं है जो अपने भविष्य के लिए पैसा नहीं लगाता। सभी लोग किसी न किसी रूप में अपने भविष्य के लिए पैसा जमा करते हैं।

SIP kya hai? सिप में निवेश कैसे करे. SIP का फुल फॉर्म क्या है, इसमें निवेश करना कितना जोखिम है और कितना होगा फायदा, सिप कैलकुलेटर क्या है, कैसे करे उपयोग|

दुनिया में कई तरह के लोग रहते हैं और सभी लोग अलग-अलग तरह के काम करते हैं। जैसे कोई बिजनेस करता है तो कोई जॉब करता है, इस तरह सभी लोग अलग-अलग काम करते हैं। लेकिन सभी लोगों का एक ही निर्देश है कि पैसा कैसे कमाया जाए । आज की पीढ़ी में हर कोई अपनी जरूरतें पूरी करना चाहता है। इसलिए हर व्यक्ति किसी न किसी तरह से पैसा कमाने में लगा हुआ है।

आप सभी में कुछ लोग ऐसे भी हैं जो अपनी बचत का पैसा कहीं न कहीं निवेश करते हैं। ताकि उन्हें अपने निवेशित धन से लाभ मिल सके। लेकिन अगर आप सभी Mutual Fund और Share Market के बारे में नहीं जानते हैं । तो एसआईपी आपके लिए एक अच्छा विकल्प है। SIP में आपको एक बार में सारा पैसा निवेश करने की जरूरत नहीं है, लेकिन आप थोड़ा पैसा निवेश कर सकते हैं। इसके कारण आपको पता भी नहीं चलेगा और कुछ सालों बाद। आपके पास बहुत सारा पैसा जमा होगा।

इसमें निवेश किए गए पैसे के लिए आपको आयकर नहीं देना पड़ता है। इसलिए मझोले परिवार के लोग सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान में निवेश करते हैं। कई लोग ऐसे भी होते हैं जिन्हें लगता है कि Systematic Investment Plan में धोखाधड़ी हुई है। लेकिन आप इसमें बिना किसी डर के पैसा लगा सकते हैं क्योंकि यह कोई फ्रॉड नहीं है। अब हम जानते हैं कि SIP क्या है और इसमें पैसे कैसे निवेश करें। हम इसके बारे में पूरी तरह से जानेंगे।

एक बार जरूर देखे:-

एसआईपी क्या है? – What is SIP in Hindi

SIP का मतलब सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान है। आप सभी ने SIP के बारे में सुना होगा कि घड़ा बूँद-बूँद भरता है। इसी तरह आप SIP में थोड़ा पैसा लगा सकते हैं। अगर आपके पास निवेश करने के लिए लाख रुपये नहीं हैं तो क्या होगा अगर आप इसमें 500 रुपये से निवेश कर सकते हैं। इसमें निवेश करने का फायदा यह है कि आपको इस पर टैक्स नहीं देना पड़ता है। और अगर आपको म्यूचुअल फंड और शेयर बाजार के बारे में जानकारी नहीं है तो आप SIP में निवेश कर सकते हैं।

अगर आप शेयर बाजार या म्युचुअल फंड में बड़ा निवेश करते हैं। तो आपको इसमें नुकसान भी हो सकता है। लेकिन अगर आप इसकी मदद से निवेश करते हैं तो आपको लाभ की संभावना अधिक रहती है। क्योंकि SIP में आपको एक बार में बड़ी रकम का निवेश नहीं करना होता है। इसमें आप छोटी सी राशि जमा कर सकते हैं। यह अनावश्यक रूप से व्यक्ति की आर्थिक स्थिति को प्रभावित नहीं करता है। अगर आप इस तरह से लंबे समय के लिए छोटा निवेश करते हैं। फिर सालों बाद आपके पास बड़ी नकदी जमा होगी।

अब इसे और आसान शब्दों में समझते हैं। उदाहरण के लिए, मान लीजिए कि आपके पास 1 लाख रुपये की नकद राशि है और आप इसे निवेश करना चाहते हैं। अगर आप इस म्यूचुअल फंड में शेयर बाजार में निवेश करते हैं। तो आप एक साथ बड़ी राशि का निवेश करते हैं। और अगर शेयर की कीमत गिरती है तो आपको बड़ा नुकसान हो सकता है।

अगर आप SIP में निवेश करते हैं तो आपको इससे 100% लाभ मिलता है। क्योंकि इसमें आपको एक बार में पैसा नहीं लगाना है। बल्कि इसमें आपको हर महीने थोड़ा सा पैसा जमा करना होता है। आप SIP में साप्ताहिक, मासिक या वार्षिक निवेश कर सकते हैं। आप इसमें कम से कम 500 रुपये से निवेश शुरू कर सकते हैं।

SIP का फुल फॉर्म

अगर आप सभी नहीं जानते हैं कि SIP का फुल फॉर्म क्या होता है। तो अब हम जानते हैं कि SIP का फुल फॉर्म क्या होता है।

SIP Ka Full Form या पूरा नाम “Systematic Investment Plan” होता है, हिंदी में SIP फुल फॉर्म – “सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान” होता है।

SIP का फुल फॉर्म क्या होता है (SIP Ka Full Form Kya Hota Hai) इस बारे में जान गए होंगे|

एसआईपी के लाभ

अब हम जानते हैं कि SIP के क्या फायदे हैं। बहुत से लोग इसमें निवेश करने से डरते हैं, उन्हें इसके फायदे या फायदे के बारे में पता होना चाहिए। यदि आप एक व्यवस्थित निवेश योजना के लाभों के बारे में नहीं जानते हैं। तो अब हम बहुत ही आसान भाषा में इसके फायदों के बारे में जानते हैं।

1. कभी भी एसआईपी बंद करें

यदि आप एक व्यवस्थित निवेश योजना में निवेश करते हैं। और किसी कारणवश आपको सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान को रोकना पड़ता है। तो आप इसमें निवेश करना भी बंद कर सकते हैं, इसके लिए आपको कोई चार्ज नहीं मिलता है। और आप चाहें तो उस पैसे को वापस ले सकते हैं। अगर आप पैसा नहीं निकालना चाहते हैं तो निवेश का पैसा म्यूचुअल फंड में लगा सकते हैं। अगर आप सिस्टेमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान में निवेश किए गए पैसे को नहीं निकालते हैं। तो उसमें आपको चार्ज रेकरिंग डिपॉजिट (RD) मिलता है।

2. SIP से पैसे निकालें

अगर आप इससे पैसा निकालना चाहते हैं तो उसके लिए ज्यादातर योजनाओं में लॉक-इन पीरियड नहीं दिया जाता है। जिससे आप पेमेंट निकाल सकते हैं। अगर आपने इसमें पांच साल के लिए निवेश किया है और आपको दो साल में पेसो की जरूरत है। तो आप सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान से दो साल में भी भुगतान निकाल सकते हैं। यह इसका बहुत अच्छा फायदा है इसलिए ज्यादातर लोग इसमें निवेश करना पसंद करते हैं।

3. एसआईपी कर छूट

अगर आप SIP में निवेश करते हैं तो इसमें निवेश किए गए पैसे पर आपको टैक्स नहीं लगता है। अगर आप इसमें निवेश किए गए पैसे पर टैक्स बचाना चाहते हैं। तो उसके लिए आपको इसमें कम से कम तीन साल का निवेश करना होगा। सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान में निवेश करते समय और भुगतान निकालते समय आपको टैक्स नहीं देना होता है।

4. एसआईपी निवेश में आसानी

SIP में निवेश करना बहुत आसान है। अगर आप इसमें निवेश करना चाहते हैं तो उसके लिए आपको योजना का चयन करना होगा। उसके बाद अपने खाते से राशि निकाल कर अपने चुने हुए प्लान में जमा कर दें। अब हम इसे आसान भाषा में समझते हैं अगर आपने इसमें दो हजार रुपये का मासिक निवेश चुना है। इसलिए महीने में अपने खाते से राशि निकाल कर अपने चुने हुए प्लान में जमा कर दें।

5. एसआईपी छोटा निवेश

आप छोटी रकम के साथ SIP में भी निवेश कर सकते हैं। जरूरी नहीं कि इसमें निवेश करने के लिए आपको लाखों रुपये की जरूरत हो। जैसा कि आप इस पोस्ट में ऊपर जान चुके हैं। इसमें आपको निश्चित अंतराल पर केवल एक निश्चित राशि ही निवेश करनी होती है। आप 500 रुपये से एसआईपी में निवेश शुरू कर सकते हैं। अगर आप एक निश्चित अंतराल में निवेश करते हैं तो कुछ सालों के बाद आपको इसमें बड़ी रकम मिल सकती है।

6. SIP का जोखिम बहुत कम होता है

SIP का सबसे बड़ा फायदा यह है कि इसमें आपका पैसा सुरक्षित रहता है। अगर आप शेयर बाजार या म्यूचुअल फंड में निवेश करते हैं तो इसमें जोखिम ज्यादा होता है। अगर आप एक साथ म्यूचुअल फंड में एक लाख रुपये का निवेश करते हैं। ताकि, आपको लाभ की संभावना कम हो और हानि की संभावना अधिक हो। यदि आप इन पेसो को अलग-अलग अंतराल पर एक व्यवस्थित निवेश योजना में निवेश करते हैं। आप उन पेसो को हर महीने दस हजार रुपये की दर से दस महीने तक जमा कर सकते हैं। इससे आप बिना जोखिम के पैसा निवेश कर सकते हैं और अच्छा मुनाफा भी कमा सकते हैं।

7. व्यवस्थित और अनुशासित निवेश

यदि आप एक व्यवस्थित निवेश योजना में निवेश करते हैं। तो इसका सबसे अच्छा फायदा यह है कि इसमें सभी कार्य व्यवस्थित और अनुशासित होते हैं। और यह अनुशासन आपको बचाने के लिए प्रोत्साहित करता है। आज की पीढ़ी के लोग जितना कमाते हैं उतना ही खर्च करते हैं। ऐसे में उन्हें पैसे बचाने में दिक्कत होती है। इसमें निवेश करने से हर महीने आपके खाते से पैसा निकल कर निवेश में चला जाता है.

8. कंपाउंडिंग के लाभ

अगर आप SIP में निवेश कर रहे हैं तो आपको एक मंथली सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान देना चाहिए। कंपाउंडिंग शब्द का अर्थ ब्याज पर भी दिलचस्पी लेना है। इसमें आपके द्वारा किए गए मासिक निवेश का आपको रिटर्न मिलता है। और उस पैसे को वापस उसी में निवेश कर दिया जाता है। इससे आपका मुनाफा बढ़ता है और सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान के पूरा होने के बाद आपको अच्छी रकम मिलती है।

SIP Calculator – व्यवस्थित निवेश योजना

अब हम जानते हैं कि सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान कैलकुलेटर क्या है(Systematic Investment Plan calculator kya hai)। इसमें आपको निवेश के रिटर्न की गणना करने में मदद मिलेगी। इससे आप जान सकते हैं कि कितने समय के लिए निवेश करने से आपको कितना मुनाफा होगा। अगर आप SIP (सिस्टमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान) में निवेश करना चाहते हैं, तो आप इसकी मदद से निवेश की जानकारी जान सकते हैं।

अब हम SIP कैलकुलेटर को सरल भाषा में समझते हैं। अगर आप किसी सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान में निवेश करते हैं तो आप उसमें निवेश के बारे में आसानी से गणना कर सकते हैं। इसमें आप साल के हिसाब से निवेश का मुनाफा जान सकते हैं। अगर आप हर महीने 500 रुपये निवेश करते हैं तो आपके पांच साल में कितना पैसा जमा हो जाएगा। और अगले पांच साल में आपको निवेश से कितना रिटर्न मिलता है? यह सारी जानकारी आप SIP कैलकुलेटर से जान सकते हैं।

एसआईपी कैलकुलेटर

एसआईपी के प्रकार (Types of SIP in Hindi)

अब हम जानते हैं कि SIP (सिस्टमेटिक इन्वेस्टमेंट प्लान) कितने प्रकार के होते हैं। यदि आप एक व्यवस्थित निवेश योजना में निवेश करना चाहते हैं। तो उसके लिए आपको एक सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान चुनना होगा। क्योंकि यह कई प्रकार के होते हैं लेकिन कुछ महत्वपूर्ण प्रकारों के बारे में हम जानेंगे।

  • Top-up SIP: आप टॉप-अप एसआईपी में भी अपना निवेश बढ़ा सकते हैं। उदाहरण के लिए, यदि आपने 500 रुपये से निवेश शुरू किया है और आप निवेश की राशि बढ़ाना चाहते हैं। तो आप इसकी मदद से अपनी निवेश राशि को बढ़ा सकते हैं।
  • Flexible SIP: Flexible SIP जैसा कि इसके नाम से पता चलता है, यह एक बहुत ही लचीला व्यवस्थित निवेश योजना है। इसमें आप अपने निवेश की मात्रा को बढ़ा या घटा सकते हैं।
  • Perpetual SIP: Perpetual SIP में आप अपने SIP की अवधि चुन सकते हैं। इसमें आप साप्ताहिक, मासिक या वार्षिक के आधार पर समय अंतराल का चयन कर सकते हैं। आम तौर पर एक अवधि के बाद एसआईपी बंद हो जाता है। लेकिन सदाचार में किसी भी प्रकार का काल नहीं है। और आप इससे कभी भी पैसे निकाल सकते हैं।
  • Multi SIP: मल्टी-एसआईपी में, आप एक ही फंड हाउस से कई योजनाओं में निवेश कर सकते हैं। यह आसानी से डायवर्सिफाइड पोर्टफोलियो बनाने का एक शानदार तरीका है।
  • SIP with Insurance: यदि आप इसमें लंबी अवधि के लिए निवेश करते हैं। तो कंपनी आपको बीमा कवर प्रदान करती है। बीमा के लिए प्रारंभिक कवर आमतौर पर पहली एसआईपी राशि का दस गुना होता है। यह सुविधा केवल इक्विटी म्यूचुअल फंड के लिए उपलब्ध है।
  • Regular SIP: इसमें आप बहुत आसानी से निवेश कर सकते हैं। इसमें निवेशक नियमित अंतराल पर एक निश्चित राशि का निवेश करता है। वह समय अंतराल साप्ताहिक, मासिक या वार्षिक हो सकता है।
  • Trigger SIP: ट्रिगर एसआईपी केवल उन लोगों के लिए है जो बाजार की गतिशीलता को अच्छी तरह से जानते हैं। इस प्रकार की योजना में आपको खरीदने और बेचने की स्थिति के बारे में पता होना चाहिए।

SIP में निवेश कैसे शुरू करें

अगर आप SIP में निवेश करना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको इसके बारे में पता होना चाहिए। अगर आपको इसके बारे में नहीं पता है तो पहले आप इसके बारे में जानकारी हासिल कर लें। क्योंकि किसी भी चीज में निवेश करने से पहले उसके बारे में पूरी जानकारी जान लेना अच्छा होता है। इस पोस्ट में हमने सीखा कि SIP क्या है।

सिस्टमैटिक इन्वेस्टमेंट प्लान में निवेश करने से पहले, आपको यह तय करना होगा कि आप कितना पैसा निवेश करना चाहते हैं। क्‍योंकि आप जो भी पैसा इन्‍वेस्‍ट करते हैं, उतना ही पैसा आपको हर महीने जमा करना होता है। उसके बाद आपको यह चुनना होगा कि आप कितने साल के लिए पैसा लगाना चाहते हैं। और आपको कितने अंतराल में साप्ताहिक, मासिक या वार्षिक रूप से पैसा जमा करना है।

इसमें निवेश करने के लिए आपको कुछ दस्तावेजों की आवश्यकता होगी। उदाहरण के लिए, पैन कार्ड, बैंक पासबुक, लिंक्ड चेक, एड्रेस प्रूफ आदि की आवश्यकता होती है। म्यूचुअल फंड में निवेश करने के लिए केवाईसी करवाना अनिवार्य है। केवाईसी करवाने के बाद आपको फंड हाउस की वेबसाइट पर जाना होगा और उसके बाद आप अपनी पसंद का एसआईपी चुन सकते हैं।

यदि आपका पहले से इसमें खाता नहीं है, तो “अभी पंजीकरण करें” पर क्लिक करें। उसके बाद आपके सामने एक फॉर्म खुलेगा, जिसमें आपको सारी जानकारी भरनी है। उसके बाद, आपको ऑनलाइन लेनदेन के लिए उपयोगकर्ता नाम और पासवर्ड का चयन करना होगा। अब आपको अपने बैंक की डिटेल भरनी है ताकि हर महीने आपका एसआईपी बैंक से निकाला जा सके। उसके बाद, आपको लॉग इन करना होगा, लॉग इन करने के लिए आपको एक उपयोगकर्ता नाम और पासवर्ड दर्ज करना होगा। रजिस्ट्रेशन पूरा होने के बाद आपको फंड हाउस से कन्फर्मेशन मिल जाएगा। अब आप एसआईपी में निवेश शुरू कर सकते हैं।

आज आपने क्या सीखा

मुझे पूरी उम्मीद है की आप सभी को आज का यह लेख जरूर पसंद आया होगा| Share Market क्या है। Share Market से पैसे कैसे कमाए और Share Market में पैसे कैसे Invest करें…… के बारे में पूरी जानकारी गई है|

अगर आपको इस लेख से सम्बंधित कुछ भी समस्या है| तो आप कमेंट सेक्शन में पूछ सकते है| लेटेस्ट अपडेट, ट्रेंडिंग न्यूज़, स्पोर्ट्स से सम्बंधित जानकरी के लिए हमारे “HOME PAGE” पर जरूर जाये| धन्यवाद Artical No: S2A4R0

Leave a Comment